Tuesday, November 30, 2010

शौक

जानता हु महफुज है साहिल पर ज़िन्दगी , पर मुझे तो शौक है लहरो पर सवार होने का ।

2 comments:

  1. लहरों पर सवारी के लिए शुभकामना...
    कौशलजी आपने अपना ब्लॉग एग्रीगेटर पर रजिस्टर करवाया या नहीं
    अपने ब्लॉग की लिंक यहाँ भेजे
    lalitya.sanklak@gmail.com
    ज्यादा लोगों तक आपका लिखा पहुँच पाएगा।
    शुभकामना...

    ReplyDelete